Positive Thought

एक राजा के पास कई हाथी थे, लेकिन एक हाथी बहुत शक्तिशाली था, बहुत आज्ञाकारी, समझदार व युद्ध-कौशल में निपुण था। बहुत से युद्धों में वह भेजा गया था और वह राजा को विजय दिलाकर वापस लौटा था, इसलिए वह महाराज का सबसे प्रिय हाथी था।

समय गुजरता गया … और एक समय ऐसा भी आया, जब वह वृद्ध दिखने लगा। अब वह पहले की तरह कार्य नहीं कर पाता था। इसलिए अब राजा उसे युद्ध क्षेत्र में भी नहीं भेजते थे। एक दिन वह सरोवर में जल पीने के लिए गया, लेकिन वहीं कीचड़ में उसका पैर धँस गया और फिर धँसता ही चला गया। उस हाथी ने बहुत कोशिश की, लेकिन वह उस कीचड़ से स्वयं को नहीं निकाल पाया। उसकी चिंघाड़ने की आवाज से लोगों को यह पता चल गया कि वह हाथी संकट में है।

Continue reading

किसी का जी न दुखाया करो

भाई! मनुष्यता के नाते तो किसी का मन न दुःखित किया करो। सम्भव है उसमें कुछ कमियाँ हों, कुछ बुराइयाँ भी हों। यह भी हो सकता है कि उसके विचार तुम से न मिलते हों, या तुम्हारी राय में उसके सिद्धान्त ठीक न हों। पर क्या इसीलिए तुम उसके मन पर अपने वाक्-प्रहारों द्वारा आघात पहुँचाओगे? तुम यह न भूल जाओ कि वह मनुष्य है, उसके भी मन होता है, तुम्हारे कठोर वचन सुनकर उसके भी हृदय में ठेस पहुँचती है और उसको भी अपने आत्माभिमान का अपनी सत्यता का अपनी मनुष्यता के अधिकार का कुछ मान है।

सम्भव है तुम्हारा वाक् चातुर्य इतना अच्छा हो कि तुम उसे अपनी युक्तियों द्वारा हरा दो। सम्भव है वह व्यर्थ विवाद करना ठीक न समझे और तुम अपनी टेक द्वारा उसे झुका दो। यह भी सम्भव है कि उसका ज्ञान अपूर्ण हो और वह बार बार तुमसे हार खाता रहे। पर इन अपने विवादों में ऐसे साधनों का प्रयोग तो न करो जो उसके हृदय पर मार्मिक चोट करते हों। संसार में सुन्दर युक्तियाँ क्या कम हैं? क्या ऐसी बातों का पूर्णतः अभाव ही हो गया है जो उसे परास्त भी कर दे, पर उस पर चोट न करें? क्या ऐसे तर्क संसार से चल बसे हैं जिनसे तुम अपना पक्ष भी स्थापित कर लो और उसका भी जी न दुःखे?

Continue reading

Gita Saar

गीता सार

 

क्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? कौन तुम्हें मार सक्ता है? अात्मा ना पैदा होती है, न मरती है।

 

जो हुअा, वह अच्छा हुअा, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप न करो। भविष्य की चिन्ता न करो। वर्तमान चल रहा है।

 

Continue reading

Types of Women

कामा शास्त्र के अनुसार स्त्रियों के प्रकार, उनके लक्षण, उनका स्वभाव

कामा शास्त्र के अनुसार स्त्रियों को मुख्यतः निम्न पांच वर्गों में बांटा गया है – शंखिनी, चित्रिणी, हस्तिनी, पुंश्चली व पद्मिनी।

शंखिनी

शंखिनी स्वभाव की स्त्रियां अन्य स्त्रियों से थोड़ी लंबी होती हैं। इनमें से कुछ मोटी और कुछ दुर्बल होती हैं।

इनकी नाक मोटी, आंखें अस्थिर और आवाज गंभीर होती है। ये हमेशा अप्रसन्न ही दिखाई देती हैं और बिना कारण ही क्रोध किया करती हैं।

ये पति से रूठी रहती हैं, पति की बात मानना इन्हें गुलामी की तरह लगता है। इनका मन सदैव भोग-विलास में डूबा रहता है।

इनमें दया भाव भी नहीं होता। इसलिए ये परिवार में रहते हुए भी उनसे अलग ही रहती हैं। ऐसी स्त्रियां संसार में अधिक होती हैं। Continue reading

Sanskrit ka Jadoo

संस्कॄत का जादू

 

संस्कृत में निम्नलिखित विशेषताएँ हैं जो उसे अन्य सभी भाषाओं से उत्कृष्ट और विशिष्ट बनाती हैं।

 ( ०१ ) अनुस्वार (अं ) और विसर्ग(अ:) :-

संस्कृत भाषा की सबसे महत्वपूर्ण और लाभदायक व्यवस्था है, अनुस्वार और विसर्ग।

पुल्लिंग के अधिकांश शब्द विसर्गान्त होते हैं —

यथा- राम: बालक: हरि: भानु: आदि। और

नपुंसक लिंग के अधिकांश शब्द अनुस्वारान्त होते हैं—

यथा- जलं वनं फलं पुष्पं आदि।

अब जरा ध्यान से देखें तो पता चलेगा कि विसर्ग का उच्चारण और कपालभाति प्राणायाम दोनों में श्वास को बाहर फेंका जाता है। अर्थात् जितनी बार विसर्ग का उच्चारण करेंगे उतनी बार कपालभाति प्रणायाम अनायास ही हो जाता है। जो लाभ कपालभाति प्रणायाम से होते हैं, वे केवल संस्कृत के विसर्ग उच्चारण से प्राप्त हो जाते हैं।

Continue reading

Valentines Day

वेलेंटाइन डे का हर प्रेमी जोड़े को बेसब्री से इंतज़ार रहता है. इस दिन लोग अपने प्यार से अपनी मोहब्बत का इज़हार करते हैं. वेलेंटाइन डे यूं तो पश्चिम की देन है लेकिन लेकिन पिछले कुछ सालों से भारत में भी वेलेंटाइन डे काफी लोकप्रिय हो गया है. अब तो युवा इसे एक त्यौहार की तरह सेलिब्रेट करते हैं. सभी प्यार के इस दिन को बेहद खास और यादगार बनाना चाहते हैं. लव बर्ड्स के लिए वेलेंटाइन डे तो स्पेशल होता ही है, साथ ही उससे पहले का एक पूरा वीक ऐसा होता है जब हर दिन कुछ ना कुछ खास होता है. इनमें रोड डे, प्रपोज डे, किस डे जैसे कई डे शामिल हैं. इन 7 दिनों को वेलेंटाइन वीक कहा जाता है. वेलेंटाइन वीक की शुरुआत 7 फरवरी से ही हो जाती है. तो आगे जानिए, किस दिन कौन सा डे होता है.

 
7 फरवरी, रोज डे: रोड डे से ही वेलेंटाइन वीक का आगाज होता है. इस दिन सभी लोग अपने प्यार, दोस्तो या अपने चहेतों को अपनी पसंद का गुलाब का फूल भेंट कर सकते हैं. गुलाब के हर रंग के पीछे एक अलग अर्थ छुपा होता है. दोस्तों को पीले रंग का गुलाब दिया जाता है और अपने प्यार को लाल या गुलाबी रंग का गुलाब देते हैं.

Continue reading

Swami Vivekananda Chicago Speech

स्वामी विवेकानंद का जन्म कोलकाता में 12 जनवरी 1863 को हुआ. अपने विचारों से स्वामी विवेकानंद ने दुनिया के बीच भारत का डंका बजाया. स्वामी विवेकानंद ने 11 सितंबर 1883 को शिकागो के विश्व धर्म संसद में हिन्दू धर्म पर प्रभावी भाषण देकर दुनियाभर से आए लोगों को आश्चर्यचकित कर दिया. स्वामी विवेकानंद को उस सम्मेलन का लोगों के लिए संबोधन ‘अमेरिका के भाइयों और बहनों’ उस वक्त से लेकर आज तक लोगों के जेहन में है. स्वामी विवेकानंद के जन्मदिन के मौके पर जानिए उनके 10 ऐसे विचार, जिन्हें अपनाने से आपके सोचने और जिंदगी जीने का नजरिया बेहतर हो सकता है और सुनिए 1883 को शिकागो के विश्व धर्म संसद में स्वामी विवेकानंद का यादगार भाषण.

Continue reading